• होली (मार्च)

  •  

    त्रेता की अंतर्व्यथा
     श्रीरमन
    मूल्य रू 100/- (डाक व्यय अतिरिक्त)
     नन्द कुमार मनोचा
     संक्षिप्त परिचय
    मूल्यांकन 14 फरवरी, 2004

     

    होली के छ्न्द

     

                                                   छवि में रंगीली, वेश भूषा में सजीली जो
                                                                        नाचती थिरकती है, रंगो में फुहारों में |
                                                    भरती खुमारी मृगनयनी सी - किल्लोल भरे
                                                                      अलग दीवानी सी है दीखती हज़ारो में |
                                                    पर्वों में पर्व है यह हर्ष उल्लास भरा
                                                                        आती है खुमारी नव नूतन बहारो में |
                                                    मस्त कर देती बाल वृद्ध नव युवकों को           
                                                                होली है निराली सारे देश के त्योहारों में |
                                                   

                                                    मधु मुस्करती भेद-भाव को मिटाती जो
                                                                     गरीब औ अमीर को कंठ से लगाती है |
                                                    बर्सो के बैर को पल मे मिटाती जो
                                                                         मनके पिरोती है माला बन जाती है |
                                                    बॉधती है बाहुओं में ,वख में नेह भरे
                                                                 साथ-साथ रहने की ही विधियां सिखाती है |
                                                    हिन्दू- सिख- मुस्लिम ईसाई सब धर्मो में
                                                                   एकता अखण्ता की ज्योतियाँ जगाती है |              
           

                                                    होली लगातार बार बार ही मनायै हम 
                                                               जीवन भर प्यार भरे रंग ही मिलाएँ हम |
                                                    धरती  हमारी यह महकेगी फूलों सी
                                                                 अमृत के घूँट यदि सब को पिलाएँ हम |
                                                    कारण बने न हम दूसरों की पीडा के
                                                                       प्रेम के ही आँसू सर्वत्र छलकाएँ हम  |
                                                    उत्सव यह और भी रंगीन बन जायेगा
                                                              रंग ही बस रंग की ही नदियाँ बहाएँ हम |                            

     

      1589 बार देखा
    अति-उत्तमउत्तमसामान्य

      शेष प्रविष्टियां

     श्रीनारायण अग्निहोत्री "सनकी"759 बार देखा गया  
    17 फरवरी, 2004  
     भोला नाथ 'अधीर'1347 बार देखा गया  
    17 फरवरी, 2004  
     नन्द कुमार मनोचा1589 बार देखा गया  
    14 फरवरी, 2004  
    उद्गार
     श्रीरमन
    मूल्य रू 25/- (डाक व्यय अतिरिक्त)

    नेह के गांव
     श्रीरमन
    मूल्य रू 100/- (डाक व्यय अतिरिक्त)

    शब्द परिमल
     श्रीरमन
    मूल्य रू 50/- (डाक व्यय अतिरिक्त)


    (c) 2003-2004 All rights reserved
    Software Techno Center(STC),India