विभिन्न क्षेत्रो के रचनाकारों से हस्य-व्यंग्य से सम्बंधित रचनाएं ( गद्य/ पद्य ) आमंत्रित की जाती हैं | कृपया अपनी रचनाएं हमें ई-मेल द्वारा भेजें |
हिन्दीसेवा.कॉम

 

बडे वही इंसान
डण्डा लखनवी
मूल्य रू 50/- (डाक व्यय अतिरिक्त)
06 मार्च, 2004भारतीय खिलाडी के विश्व रिकार्ड

                        भारोत्तोलन
                           करता हूं  ध्यान हनुमान जी मै  आपका ही
                       आप    देव - देवियों   में  गेरुवे कलर है !
                       सबने   रचाई  प्रभु  अपनी  सगाई  किंतु ,
                       आप  ही  कृपा   निधान शेष   बेचलर है !!
                       जितने बने  हैं सारे  विश्व  में रिकार्ड  सब,
                       आपके  रिकार्ड    के  समक्ष  लघुतर  हैं !
                       अरबों  टनों का गिरि आपने उठाया  नाथ ,
                       आप तो  सुपरसीड   वेट - लिफ्टर  है  !!   
     
                    लॉग - ज्मपिंग
                        रमता  है  नाम बजरंगबली  गली - गली ,
                        आप  के  पुजारी  बसे हुवे  घर - घर हैं !!
                        रण  में  प्रवीन  श्रीराम चंद्र   के  अधीन
                        उनकी  मिलेटरी  के  आप  अफसर  है  !!
                        जितने  बने  है सारे विश्व  में रिकार्ड सब ,
                        आप  के रिकार्ड  के  समक्ष  लघुतर हैं  !!
                        जग  को दिखाया जम्प  करके अगम - सिंधु ,
                        आप  लॉग - जम्परों में सबसे  जबर हैं !!
                         
                     मुक्केबाजी
                        कुशल   पहलवान    राम - भक्त  हनुमान ,
                        घुसते  थे रावण   के  जब  फोज - फाटे में |
                        पकड  के  केश    असुरों के मारते थे दांव ,
                        धोबी  जैसै  कपडे  पटकता   हो  पाटे में ||
                        उदर  को  फोड दोनो  करों  को  मरोड ,
                        झट पोपला बनाते थे मुखौटा एक चाटे में ||
                        दानव निराश न फटकते थे आस - पास,
                        क्योंकि चेम्पियन थे आप जूडो में कराटे में ||
               
                     फुटबाल
                        लाल - लाल देह  राम के  निमित्त   नेह ,
                        रंणभूमि में वे  जलती  मशाल जैसै लगते |
                        वीरता का  जोश दैत्य - वंश पे प्रचंड रोष,
                        युद्ध  में  प्रबुद्ध  क्रुद्ध   काल जैसै  लगते ||
                        बडे - बडे  बीहडों  से  भिडती भिडंत तब ,
                        करतब  आप  के  कमाल  जैसै   लगते ||
                        करते  जो  वार  पढ़ का प्रहार एक बार ,
                        असुर  हजार   फुटबाल   जैसै   लगते ||

                       धावक
                        शक्ति - वाण लगते  ही लखन  अचेत हुवे ,
                        सर्जरी   में उस वक्त  कुशल   सुखेन थे |
                        झटपट   जाने  वाले विघन मिटाने वाले ,
                        उन्हें वहां लाने वाले आप ही तो मेन थे ||
                        उनकी बताई जब दवा  नहीं  मिल पायी ,
                        गिरि ही उखाड लाये  कर थे कि क्रेन थे ||
                        रातो - रात कर डाली जरनी ह्जारो मील ,
                        एरोप्लेन पग थे कि  पग   एरोप्लेन थे ||


  पद्य

ससुराल की होली 
रचयिता - श्रीनारायण अग्निहोत्री 
-काव्य
नेतागीरी 
रचयिता - राम गुलाम रावत 
-काव्य
भारतीय खिलाडी के विश्व रिकार्ड 
रचयिता - डण्डा लखनवी 
-काव्य
लटक गया 
रचयिता - भोलानाथ 'अधीर' 
-गीत
हिन्दी 
रचयिता - श्रीनारायण अग्निहोत्री 'सनकी' 
-हास्य-व्यंग्य
'मेन होल' के प्रति आभार 
रचयिता - भोला नाथ 'अधीर' 
-हास्य-व्यंग्य
  गद्य

कोहरे में डूबा शहर
डॉ0 नरेश कात्यायन
मूल्य रू 110/- (डाक व्यय अतिरिक्त)

मिशन अम्बेडकर(मासिक)
 राखी जाटव
मूल्य रू 10/- (डाक व्यय अतिरिक्त)

त्रेता की अंतर्व्यथा
 श्रीरमन
मूल्य रू 100/- (डाक व्यय अतिरिक्त)


(c) 2003-2004 All rights reserved
Software Techno Center(STC),India