विभिन्न क्षेत्रो के रचनाकारों से हस्य-व्यंग्य से सम्बंधित रचनाएं ( गद्य/ पद्य ) आमंत्रित की जाती हैं | कृपया अपनी रचनाएं हमें ई-मेल द्वारा भेजें |
हिन्दीसेवा.कॉम

 

बडे वही इंसान
डण्डा लखनवी
मूल्य रू 50/- (डाक व्यय अतिरिक्त)
30 जून, 2004लटक गया

 बच्चों की अप्लीकेशन पर,
बीबी की रिक्मनडेशन पर,
इस साल समर वेकेशन पर,
जाना था हिल स्टेशन पर,
                            प्रोग्राम मुझी पर पटक गया|
                                बस केस यहीं पर लटक गया||  
कब जाना, कैसे जाना है,
किसके घर ठौर-ठिकाना है,
क्या-क्या सामान जुटाना है,
क्या लेना है,क्या लाना है,
                                        तय करने में जी खटक गया|
                                        बस केस यहीं पर लटक गया||
चट आरक्षण करवा डाला,
चमका डाला जूता काला,
घर का कबाड बिकवा डाला,
बस इसी बीच आया साला,
                                        वह जाने कैसे फटक गया|
                                            बस केस यही पर लटक गया||
जिसके घर पर ठहराना था,
जिसके घर ठौर-ठिकाना था,
जिसके सर ढोल बजाना था,
जिसकी कूवत पर जाना था,
                                            वह दोस्त, सुना है,कटक गया |
                                        बस केस यहीं पर लटक गया||
मैं जितना वेतन लाया था,
जिसके बल पर इतराया था,
राशन-पानी भर लाया था,
सब तैयारी करवाया था,
                                        वह सारा वेतन सटक गया|
                                            बस केस यहीं पर लटक गया|| 
सोचा, उधार मैं ले लूँगा,
बोनस पर वापस दे दूँगा,
अबकी अगली जो  'पे' लूगाँ,
थोडा उसमें से दे दूँगा,
                                            पैसो के खातिर भटक गया|
                                                बस केस यहीं पर लटक गया|| 
थोडी-सी बात चलाई थी,
मित्रों को भी बतलाई थी,
बोतल पूरी पिलवाई थी,
पर मिली नहीं इक पाई थी,
                                                    सब काम इसी से अटक गया|
                                                        बस केस यहीं पर लटक गया||    
बीबी गुस्से से हुई मैड,
बच्चे भी मेरे हुए सैड,
मैं भी बोला, ये हुआ बैड,
पर भीतर-भीतर बडा ग्लैड,
                                                    क्वाटर भर हिस्की गटक गया|
                                                   बस केस यही पर लटक गया|| 



  पद्य

ससुराल की होली 
रचयिता - श्रीनारायण अग्निहोत्री 
-काव्य
नेतागीरी 
रचयिता - राम गुलाम रावत 
-काव्य
भारतीय खिलाडी के विश्व रिकार्ड 
रचयिता - डण्डा लखनवी 
-काव्य
लटक गया 
रचयिता - भोलानाथ 'अधीर' 
-गीत
हिन्दी 
रचयिता - श्रीनारायण अग्निहोत्री 'सनकी' 
-हास्य-व्यंग्य
'मेन होल' के प्रति आभार 
रचयिता - भोला नाथ 'अधीर' 
-हास्य-व्यंग्य
  गद्य

कोहरे में डूबा शहर
डॉ0 नरेश कात्यायन
मूल्य रू 110/- (डाक व्यय अतिरिक्त)

काव्य-नीहारिका
डॉ0 मिर्ज़ा हसन नासिर
मूल्य रू 30/- (डाक व्यय अतिरिक्त)

रूबाई-शतक
डॉ0 मिर्ज़ा हसन नासिर
मूल्य रू 50/- (डाक व्यय अतिरिक्त)


(c) 2003-2004 All rights reserved
Software Techno Center(STC),India