विभिन्न क्षेत्रो के रचनाकारों से हस्य-व्यंग्य से सम्बंधित रचनाएं ( गद्य/ पद्य ) आमंत्रित की जाती हैं | कृपया अपनी रचनाएं हमें ई-मेल द्वारा भेजें |
हिन्दीसेवा.कॉम

 

कथा सागर(त्रैमासिक)
तस्नीम
मूल्य रू 15/- (डाक व्यय अतिरिक्त)
30 जून, 2004हिन्दी

हिन्दी, हिन्दू हिन्दुस्तान|
हिन्दी का होता अपमान||
अंग्रेजी शासन करती है,
फिर भी अपना देश महान||
हे भगवान, हे भगवान ||
हिन्दी में करिये अब काम |
अंग्रेजी का मत लो नाम ||
टा टा गुडबाई अब छोडो,
करो नमस्ते, और प्रणाम||
जै श्री राम, जै श्री राम||
आंटी हो गयी, चाची, ताई|
अंग्रजी का टॆम्पो हाई||
कहना छोडो मम्मी, पापा,
कहिये अम्मा, बप्पा, भाई||
ये मेरे भाई, ये मेरे भाई||
चली आ रही हौले हौले|
दिल्ली में पछुवा अब डोले||
संसद में अंग्रेज घुसे है,
हर सांसद अब इंग्लिस बोले||
बम भोले भाई, बम भोले||



  पद्य

ससुराल की होली 
रचयिता - श्रीनारायण अग्निहोत्री 
-काव्य
नेतागीरी 
रचयिता - राम गुलाम रावत 
-काव्य
भारतीय खिलाडी के विश्व रिकार्ड 
रचयिता - डण्डा लखनवी 
-काव्य
लटक गया 
रचयिता - भोलानाथ 'अधीर' 
-गीत
हिन्दी 
रचयिता - श्रीनारायण अग्निहोत्री 'सनकी' 
-हास्य-व्यंग्य
'मेन होल' के प्रति आभार 
रचयिता - भोला नाथ 'अधीर' 
-हास्य-व्यंग्य
  गद्य

चेतना स्रोत(त्रैमासिक)
विकल
मूल्य रू 15/- (डाक व्यय अतिरिक्त)

अमृत झरै बिदुर की बानी
सरन
मूल्य रू 40/- (डाक व्यय अतिरिक्त)

बडे वही इंसान
डण्डा लखनवी
मूल्य रू 50/- (डाक व्यय अतिरिक्त)


(c) 2003-2004 All rights reserved
Software Techno Center(STC),India